29 January 2023

50 साल बाद एक बार फिर से भारतीय बाजार में लौटी ये गाड़ी, धमाकेदार मॉडल से सबको कर दिया हैरान

50 साल बाद एक बार फिर से भारतीय बाजार में लौटी ये गाड़ी, धमाकेदार मॉडल से सबको कर दिया हैरान 1

भारत में टू-व्हीलर मोबिलिटी के क्षेत्र में क्रांति लाने वाली मोपेड Kinetic Luna (काइनेटिक लूना) एक बार फिर दिखाई देने वाली है। 50 साल बाद काइनेटिक ग्रुप पॉपुलर मॉडल मोपेड लूना को भारतीय बाजार में उतारने जा रहा है। लेकिन इस बार ये इलेक्ट्रिक अवतार (ई-लूना) में लॉन्च होगी।

Kinetic Engineering Ltd. (KEL), काइनेटिक इंजीनियरिंग लिमिटेड (केईएल) ने एलान किया है कि उसने काइनेटिक लूना इलेक्ट्रिक के चेसिस और अन्य असेंबलियों का उत्पादन पहले ही शुरू कर दिया है। कंपनी ने मुख्य चेसिस, मुख्य स्टैंड, साइड स्टैंड, स्विंग आर्म समेत ई-लूना के लिए सभी प्रमुख उपसमूह विकसित किए हैं और 5,000 सेट प्रति माह की प्रारंभिक क्षमता के साथ एक उत्पादन लाइन स्थापित की है।

केईएल के मैनेजिंग डायरेक्टर अजिंक्य फिरोदिया का दावा है कि इलेक्ट्रिक लूना अपने आईसीई-पावर्ड वर्जन की तरह ही बहुत अच्छा प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि ई-लूना की मात्रा में बढ़ोतरी के साथ अगले दो-तीन वर्षों में यह कारोबार सालाना 30 करोड़ रुपये से ज्यादा जुड़ जाएगा। इससे केईएल को ईवी सेगमेंट में अपनी मौजूदगी बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।”


कभी 2,000 में बिकती थी लूना : उन्होंने आगे कहा, “केईएल इलेक्ट्रिक टू और थ्री व्हीलर वाहनों के लिए सभी प्रमुख मैकेनिकल सब-एसेंबली के लिए वन-स्टॉप शॉप के रूप में उभर रहा है, जिसमें पिछले 12 महीनों में तेजी से बढ़ोतरी देखी गई है।” केईएल ने ठीक 50 साल पहले लूना को लॉन्च किया था। जिसकी कीमत तब 2,000 रुपये थी। उस वक्त इसे भारत के लिए सबसे कुशल, किफायती और सुविधाजनक परिवहन के रूप में जाना जाता था।

कंपनी ने अपनी रेगुलेटरी फाइलिंग में आगे कहा है कि भारत में बढ़ते इलेक्ट्रिक वाहन बाजार और भार ढोने वाले वाहनों की ओर प्राथमिकता के साथ, ई-लूना का लक्ष्य अपनी पेशकशों के साथ सभी सेगमेंट की जरूरत पूरा करना है। लॉन्च होने पर, ई-लूना निचले स्तर के बाजारों में कम्यूटर सेगमेंट और लोड कैरियर श्रेणी को एक ऑल-इलेक्ट्रिक लास्ट-माइल मोबिलिटी के रूप में लक्षित करेगा।


80 के दशक में लूना एक लोकप्रिय मोपेड बन गई थी। इसकी पॉपुलैरिटी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह अपनी कैटेगरी में 95 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी रखती थी। कंपनी ने कहा कि सभी एसेंबली पूरी तरह से तैयार हो जाएंगी और अहमदनगर स्थित कंपनी के कारखाने को फिर से शुरू किया जा रहा है ।